अलगाववादी नेताओं का बयान केंद्र सरकार युवाओं को परेशान कर रही

जम्मू एवं कश्मीर के अलगाववादी नेताओं ने केंद्र सरकार पर युवाओं को परेशान करने का आरोप लगाया है। आपको बता दें की हमेशा देश विरोधी गतिविधियों की वजह से सुर्ख़ियों में रहने वाले जम्मू एवं कश्मीर के अलगाववादी नेताओं ने अब केंद्र सरकार पर निशाना साधा है। अलगाववादी नेताओं ने कहा की उनके  पास हिंसा के अलावा और कोई विकल्प नहीं बचा है।यह आरोप अलगाववादी नेता सैयद अली गिलानी, मीरवाइज उमर फारूख और मोहम्मद यासीन मलिक की अध्यक्षता वाले संयुक्त प्रतिरोध नेतृत्व (जेआरएफ) के दौरान लगाया गया है। उनका कहना है कि जम्मू एवं कश्मीर की राजनीतिक स्थिति चिंताजनक है।जेआरएफ की ओर से जारी बयान के अनुसार, जम्मू और कश्मीर में युवाओं को झूठे आरोपों में फंसाकर हिरासत में लिया जा रहा है और विभिन्न जेलों में रखा जा रहा है। यहां युवाओं को परेशान किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि ऐसी अलोकतांत्रिक और अमानवीय स्थिति को ज्यादा समय तक नहीं सहा जा सकता।अलगाववादी नेताओं के बयान में आरोप लगाया गया है कि वैश्विक समुदाय की चुप्पी के कारण भारत सरकार और इसके प्रतिनिधि कश्मीर में मानवाधिकारों का उल्लंघन कर रहे हैं। बयान में यह भी कहा गया है कि कश्मीर समस्या का हल सेना या हथियारों से कभी नहीं हो सकता। इससे जान माल का ज्यादा नुकसान होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *