पी चिदंबरम ने मोदी सरकार को दिखाया आईना, कहा-2 सालों में जीडीपी दर में आई भारी गिरावट

नई दिल्ली: वरिष्ठ कांग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय वित्तमंत्री पी. चिदंबरम ने रविवार को नरेंद्र मोदी सरकार की आलोचना करते हुए कहा कि विकास की रट लगाई जा रही है और देश में विकास का हाल यह है कि दो साल में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) दर 8.2 फीसदी से घटकर 6.7 फीसदी हो गई। उन्होंने कहा कि मौजूदा सरकार के चार साल के कार्यकाल में जीडीपी दर सुस्त रही और बैंकों के फंसे हुए कर्ज (एनपीए) 2,63,015 करोड़ रुपये से बढ़कर 10,30,000 करोड़ रुपये हो गए और बैंकिंग प्रणाली दिवालिया हो गई।उन्होंने कहा कि विमुद्रीकरण के बाद जीडपी में गिरावट के बारे में उन्होंने जो अनुमान जाहिर किया था वही हुआ। चिदंबरम ने श्रंखलाबद्ध ट्वीट के जरिए कहा, “केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (सीएसओ) द्वारा जारी किए गए आर्थिक आंकड़ों के बाद मीडिया में सिर्फ एक ही आंकड़ा 7.7 फीसदी आया।”उन्होंने कहा कि यह वित्तवर्ष 2017-18 का जीडीपी वृद्धि दर के रूप में निस्संदेह आकर्षक था, मगर वास्तव में यह चौथी तिमाही का आंकड़ा था, जबकि पूरे साल की जीडीपी वृद्धि दर सुस्ती के साथ 6.7 फीसदी रही।”

चिदंबरम ने तंज कसाते हुए कहा कि चार साल के अंत में सरकार वाकई साफ नीयत, सही विकास की राह पर चल पड़ी है। उन्होंने कहा कि साख वृद्धि में भी भारी गिरावट आई है और यह 2017-18 में सुधार से पहले 13.8 फीसदी से घटकर 5.4 फीसदी हो गई। पिछले चार साल में सालना साख वृद्धि दर 5.6, 2.7,1.9 और 0.7 फीसदी रही।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *