हरियाणा के डीपी वत्स होंगे निर्विरोध राज्यसभा सांसद

राज्यसभा में कई बिल पारित करते समय अक्सर कमजोर पड़ने  वाली भाजपा  को हरियाणा से बल मिला है। सोमवार को राज्यसभा में नामांकन के लिए अंतिम दिन था। भाजपा ने रविवार को देररात डीपी वत्स को प्रत्याशी घोषित किया और सुबह उन्होंने नामांकन दाखिल कर दिया। विरोध में कोई प्रत्याशी न होने के कारण डी.पी. वत्स निर्विरोध राज्यसभा सांसद चुने गए हैं। वत्स अब कांग्रेस सांसद शादीलाल बत्तरा का स्थान लेंगे।

इस समय हरियाणा से राज्यसभा के पांच सांसद हैं। इनमें शादीलाल बत्तरा तथा कुमारी सैलजा कांग्रेस से, रामकुमार कश्यप आईएनएलडी तथा चौधरी बीरेंद्र सिंह बीजेपी से हैं, जबकि सुभाष चंद्रा निर्दलीय चुनाव लडार राज्यसभा में पहुंचे। वह बीजेपी के साथ खड़े हैं। हरियाणा से राज्यसभा की सीट पर चुनाव कांग्रेसी सांसद शादीलाल बतरा का कार्यकाल अप्रैल में खत्म होने के कारण करवाया जा रहा है।  मुख्यमंत्री  मनोहरलाल खट्टर, भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सुभाष बराला, संसदीय कार्य मंत्री रामबिलास शर्मा, मुनीष ग्रोवर, कर्ण देव कंबोज समेत भाजपा के करीब 25 विधायकों तथा भाजपा के संगठन मंत्री सुरेश भट्ट के साथ विधानसभा में पहुंचे जहां उन्होंने अपना नामांकन पत्र दाखिल किया। आज नामांकन पत्र दाखिल करने का अंतिम दिन था। वत्स के मुकाबले किसी भी पार्टी ने अपना प्रत्याशी चुनाव मैदान में नहीं उतारा। जिसके चलते वह निर्विरोध राज्यसभा सांसद चुन लिए गए।

कौन हैं डीपी वत्स : भाजपा की टिकट से राज्यसभा में जाने वाले डी.पी. वत्स मूल रूप से हिसार जिले के गांव थुराना के रहने वाले हैैं। पेशे से डाक्टर तथा रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल अगस्त 2011 में हुड्डा सरकार में हरियाणा लोक सेवा आयोग के चेयरमैन बने थे। डीपी वत्स अगस्त 2014 में भाजपा में शामिल हो गए थे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *