हाफिज सईद ने पाकिस्तानी सिखों से मांगा चुनाव में समर्थन, भारत के खिलाफ उगला जहर

नई दिल्ली: 2008 के मुंबई हमलों का मास्टर माइंड और जमात-उद-दावा का प्रमुख हाफिज सईद पाकिस्तान की राजनीति में पैर जमाने की कोशिश में है। जिसके लिए हाफिज पाकिस्तानी सिखों से समर्थन मांग रहा है। बता दें कि पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में बड़ी संख्या में सिख समुदाय के लोग ननकाना साहिब में रहते हैं।इसी को लेकर हाफिज ने पाकिस्तान सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के सदस्यों के साथ मुलाकात की है। हाफिज ने न सिर्फ पकिस्तान सिखों से समर्थन मांगा है बल्कि उन्हें भारत के खिलाफ भड़काया भी है। सईद ने उन्हें भड़काते हुए कहा, ‘सिख बहादुर कौम है, लेकिन भारत में उन पर अत्याचार किए जा रहे हैं। पाक सरकार इसके खिलाफ आवाज नहीं उठाती, क्योंकि वह भारत से दोस्ती चाहती है।’सिख नेताओं के साथ बैठक में सईद के साथ मिल्ली मुस्लिम लीग (एमएमएल) प्रमुख सैफुल्लाह खालिद भी थे। एमएमएल जमात उद दावा का राजनीतिक चेहरा है। गृह मंत्रालय की आपत्ति पर एमएमएल का पाकिस्तान के चुनाव आयोग ने अभी तक पंजीकरण नहीं किया है। सईद ने बीते शुक्रवार को लाहौर से करीब 80 किलोमीटर दूर ननकाना साहिब में जमात उद दावा कार्यालय में पाकिस्तान सिख गुरूद्वारा प्रबंधक कमेटी के महासचिव गोपाल सिंह चावला के नेतृत्व वाले एक सिख समूह से मुलाकात की थी।

आतंकी हाफिज सईद अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। आतंकी संगठन जमात-उद-दावा और लश्कर-ए-तैयबा पर प्रतिबंध लगने के बाद से वो बौखलाया हुआ है, जिसके बाद वो पाकिस्तान की राजनीति में अपने पैर जमाने की कोशिश में जुट गया है। जब यहां भी उसे मुंह की खानी पड़ी, तो अब नए दांव-पेंच पर उतर आया है। हाफिज के सिर पर अमेरिका ने एक करोड़ डॉलर का ईनाम घोषित किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *