यशवंत सिन्हा के बाद अरुण शौरी के निशाने पर सरकार, नोटबंदी को कहा- 'मनी लाउंड्रिंग स्कीम'

यशवंत सिन्हा के बाद अरुण शौरी के निशाने पर सरकार, नोटबंदी को कहा- 'मनी लाउंड्रिंग स्कीम'
यशवंत सिन्हा के बाद अरुण शौरी के निशाने पर सरकार, नोटबंदी को कहा- ‘मनी लाउंड्रिंग स्कीम’

भाजपा एक बार फिर से अपने ही लोगों के सवालों के घेरे में आ चुकी है। अब कि बार पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी ने मोदी सरकार पर निशाना साधा है। शौरी ने कहा कि नोटबंदी एक बहुत बड़ी मनी लाउंड्रिंग स्कीम थी जिसे सरकार द्वारा काले धन को सफेद करने के लिए लागू किया गया था।

शौरी ने एक न्यूज चैनल को दिए इंटरव्यू में कहा नोटबंदी खुदखुशी के समान थी और खुदखुशी करना भी साहसिक कदम होता है। अरुण शौरी ने कहा, नोटबंदी काले धन को सफेद करने के लिए सरकार की ओर से चलाई गई सबसे बड़ी स्कीम थी। जिसके पास भी काला धन था उसने सफेद कर लिया। आरबीआई ने कहा कि नोटबंदी के बाद 99 फीसद पुराने नोट वापस आ गए, साफ है कि नोटबंदी से काला धन नष्ट नहीं हुआ।

वहीं जीएसटी को लेकर अरुण शौरी ने कहा कि इस समय देश की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है और जीएसटी को बहुत ही गलत समय पर लागू किया गया। शौरी ने कहा जीएसटी में बहुत खामियां है। इन्ही कारणों से सरकार कई बार इनके नियमों में फेरबदल कर चुकी है। जीएसटी के कारण कई छोटे व्यापारी बर्बाद हो गए।

शौरी ने ये भी कहा है कि बड़े आर्थिक फैसले सिर्फ ढाई लोग लेते हैं, पीएम नरेंद्र मोदी, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और घर के वकील, उनका इशारा वित्त मंत्री अरुण जेटली की ओर है।

बता दें कि कुछ दिन पहले पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा ने कहा था कि देश इस वक्त आर्थिक मंदी से गुजर रहा है। इसपर नोटबंदी और जीएसटी ने आग में घी का काम किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *