पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली के निधन पर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने जताया दुख

नई दिल्ली: पूर्व केन्द्रीय मंत्री एवं भाजपा के कद्दावर नेता के निधन से राजनीतिक खेमे में दुख की लहर दौड़ गई । राष्ट्रपति, उप राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री सहित विभिन्न पार्टियों के बड़े नेताओं ने उनके निधन पर शोक व्यक्त किया। पूर्व केन्द्रीय मंत्री मंत्री का इलाज कई सप्ताह से एम्स में चल रहा था, जहां उन्होंने आज शनिवार दोपहर 12 बजकर सात मिनट पर आखिरी सांस ली। वह 66 वर्ष के थे।

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने एक बयान में जेटली के निधन पर दुख जताते हुए कहा, ”जेटली ने एक सार्वजनिक व्यक्तित्व, सांसद और मंत्री के रूप में लंबे समय तक सेवाएं दीं। सार्वजनिक जीवन में उनके योगदान को हमेशा याद किया जायेगा।” इससे पहले कांग्रेस पार्टी ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से कहा, ”हमें अरुण जेटली जी के निधन के बारे में सुनकर बहुत दुख हुआ है। दुख की इस घड़ी में हमारी संवेदनाएं और प्रार्थना जेटली जी के परिवार के साथ हैं।”

राष्ट्रपति राम नाथ कोविन्द ने उनके निधन पर शोक जताते हुए कहा कि वि बेहद दुखी हैं। कोविन्द ने लिखा, ”अरुण जेटली के देहावसान से मुझे गहरा दुख हुआ है। उन्होंने दृढ़ता और गरिमा से अपनी बीमारी का सामना किया। एक प्रखर वकील, अनुभवी सांसद और उत्कृष्ट मंत्री के रूप में उन्होंने राष्ट्र निर्माण में अमूल्य योगदान दिया। उन्होंने लिखा, ” अरुण जेटली, कठिन से कठिन कार्य को शांति, धैर्य और गहरी समझदारी के साथ पूरा करने का अद्भुत सामर्थ्य रखते थे। उनका देहावसान हमारे सार्वजनिक जीवन और बौद्धिक क्षेत्र के लिए बहुत बड़ी क्षति है। उनके परिवार और सहयोगियों के प्रति मेरी गहन शोक संवेदनाएं।

उप राष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने उन्हें एक अच्छा मित्र बताते हुए उनके निधन पर गहरा दुख जताया। नायडू ने कहा, ” उनके निधन से देश को हुई क्षति की भरपाई नहीं की जा सकती और यह मेरे लिए एक व्यक्तिगत क्षति है। दुख व्यक्त करने के लिए मेरे पास शब्द नहीं है।

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं गृह मंत्री अमित शाह ने जेटली के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए इसे व्यक्तिगत क्षति बताया। उन्होंने ट्वीट किया, ”अरुण जेटली जी के निधन से अत्यंत दुखी हूं, जेटली जी का जाना मेरे लिये एक व्यक्तिगत क्षति है। उनके रूप में मैंने ना सिर्फ संगठन का एक वरिष्ठ नेता खोया है बल्कि परिवार का एक ऐसा अभिन्न सदस्य भी खोया है जिनका साथ और मार्गदर्शन मुझे वर्षों तक प्राप्त होता रहा।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने लिखा, ”जेटली जी को अर्थव्यवस्था को निराशा के दौर से बाहर निकालने और वापस पटरी पर लाने के लिए हमेशा याद किया जाएगा। भाजपा में अरुण जी की कमी हमेशा खलेगी। मैं उनके परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त करता हूं।”

महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा, ”एक कद्दावर नेता जिन्होंने हमेशा अभावग्रस्त लोगों की मदद की…बेमिसाल वक्ता, कानून विशेषज्ञ अरुण जेटली जी ने पूरी ईमानदारी एवं जोश के साथ देश और संगठन की सेवा की। मैं उन्हें श्रद्धांजलि देती हूं। उनके प्रियजनों को संवेदनाएं। ओम शांति।

कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल, मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला और कई अन्य नेताओं ने भी जेटली के निधन पर दुख प्रकट किया।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने जेटली के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए इसे देश के लिए बड़ी क्षति बताया। उन्होंने ट्वीट किया, ” पूर्व वित्त मंत्री एवं वरिष्ठ नेता श्री अरुण जेटली का असमय निधन देश के लिए एक बड़ी क्षति है। कानून विशेषज्ञ और एक अनुभवी राजनेता, जिन्हें उनके शासन कौशल के लिए पहचाना जाता था, देश उन्हें याद करेगा। दुख की इस घड़ी में हमारी संवेदनाएं एवं प्रार्थना उनके परिवार के साथ हैं।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा, ”अरुण जेटली जी के निधन से बेहद दुखी हूं। एक बेहतरीन सांसद एवं बेमिसाल वकील, सभी दल उनका सम्मान करते थे। भारतीय राजनीति में उनका योगदान याद किया जाएगा। उनकी पत्नी, बच्चों, दोस्तों और प्रशंसकों के साथ मेरी संवेदनाएं हैं।

ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने जेटली के निधन पर दुख व्यक्त करते हुए कहा कि वह एक विद्वान व्यक्ति थे। उन्होंने ट्वीट किया, ”पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरुण जेटली जी के निधन की खबर सुन बेहद दुखी हूं। वह प्रखर वकील, सांसद और एक विद्वान व्यक्ति थे।

गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने कहा, ”पूर्व केन्द्रीय मंत्री एवं भाजपा के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली जी के निधन से बेहद दुखी हूं। एक राजनेता और तारकीय बुद्धिजीवी जिनका हर कोई सम्मान करता था। वित्त मंत्री रहते हुए उन्होंने कई आर्थिक सुधार किए।”

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने ट्वीट किया, ”भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली जी का निधन दुखद। उन्होंने उच्च राजनीतिक मूल्यों एवं आदर्शों की बदौलत सार्वजनिक जीवन में शिखर को प्राप्त किया। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दें।”

तमिलनाडू के मुख्यमंत्री के. पलानीस्वामी ने कहा, ”अरुण जेटली के निधन से ना केवल उनके परिवार को बल्कि उनकी पार्टी और पूरे देश को एक बड़ी क्षति पहुंची है।

उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पूर्व केन्द्रीय वित्त मंत्री एवं उत्तर प्रदेश से राज्यसभा सदस्य अरूण जेटली के निधन पर शनिवार को गहरा दुःख व्यक्त किया। राजभवन के एक प्रवक्ता के मुताबिक राज्यपाल ने अपने शोक संदेश में कहा कि अरूण जेटली एक कुशल अधिवक्ता एवं नेता थे। उन्होंने अनेक भूमिकाओं में देश की सेवा की । विधि एवं संसदीय परम्परा के उत्कृष्ट ज्ञान एवं अपनी विद्वता के कारण उन्होंने विशिष्ट पहचान बनाई ।

योगी ने यहां जारी एक शोक सन्देश में कहा कि अरुण जेटली एक वरिष्ठ एवं अनुभवी राजनेता थे। वह एक उत्कृष्ट वक्ता एवं संसदीय कार्य प्रणाली के जानकार थे। वह अपनी बात को तथ्यों के साथ तार्किक रूप से प्रस्तुत करते थे ।

बसपा प्रमुख मायावती ने ट्वीट किया, ”वह बीमार थे और उनका हालचाल लेने हाल ही में मैं एम्स गयी थी । वह एक नामी वकील और अच्छे इंसान थे । देश की राजनीति में उनके योगदान को भुलाया नहीं जा सकता । उनके परिवार के प्रति गहरी संवेदना ।”

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ट्वीट किया, ”अरुण जेटली जी एक कुशल वक़्ता, सफल अधिवक्ता और सौम्य राजनीतिज्ञ के रूप में सदैव स्मरणीय रहेंगे । विनम्र श्रद्धांजलि । ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे ।”

मुख्यमंत्री गहलोत ने उनके निधन पर शोक व्यक्त करते हुए ट्वीट किया, ”पूर्व केंद्रीय मंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली के असामयिक निधन के समाचार से दुखी हूं। गहलोत ने जेटली के परिजनों के प्रति सांत्वना जताई। इस बीच, पायलट ने जेटली के निधन को देश के लिए बड़ी क्षति बताया है। उन्होंने ट्वीट किया, ”यह सुनकर गहरा दुख हुआ कि जेटली नहीं रहें।

सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा, ” यह देश, भारतीय राजनीति, कानूनविदों को एक बड़ी क्षति है। मेहता ने कहा, ”उन्हें एक विचारशील वक्ता, एक भरोसेमंद दोस्त, एक बुद्धिमान राजनेता और एक प्रखार वकील के तौर पर याद किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *