छत्तीसगढ़ में डाॅ0 पीएल पुनिया ने कांग्रेस को जिताने में अहम भूमिका निभाई

नई दिल्ली : छत्तीसगढ़ में भाजपा के दुर्ग को बाराबंकी के कर्म पुत्र डाॅ0 पीएल पुनिया की रणनीति ने हलाल कर डाला। जाहिर है कि इसी के साथ जहां कांग्रेस व देश की राजनीति में पुनिया का मान बढ़ा तो वहीं छत्तीसगढ़ में बाराबंकी भी जाना-पहचाना जनपद बन गया। जबकि चर्चाओं में कई स्वर उन्हें इस राज्य का मुख्यमंत्री भी घोषित करते नजर आ रहे हैं

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के मजबूत सेनापति डाॅ0 पन्नालाल पुनिया छत्तीसगढ़ में कमाल दर कमाल कर गये। बाराबंकी के इस कर्मपुत्र को जब श्री गांधी ने छत्तीसगढ़ का किला फतह करने की जिम्मेदारी सौंपी थी तब कई वरिष्ठ कांग्रेसियों के मुंह भी बिदग गये थे। अनसुनी आवाजों में यह आवाजे भी सुनी गयी थीं कि पुनिया शायद ही इस राज्य में कांग्रेस की दुनिया को बसा पायें। लेकिन आने वाले समय को शायद कुछ और ही मंजूर था और फिर वही हुआ जो नियत ने तय कर रखा था। डाॅ पीएल पुनिया ने सर्वप्रथम छत्तीसगढ़ कांग्रेस के ढीले पेंचों को कसा और फिर संगठन में पदाधिकारियों तथा वरिष्ठ नेताओं से समन्वय स्थापित किया।सूत्रों का दावा है कि पार्टी एवं अन्य सर्वेक्षणों के अनुरूप होने के बाद भी पुनिया ने कहीं भी कोई ढिलवाही नहीं बरती। ग्राम पंचायत स्तर पर आम मतदाता तक पहुंच बनाने में माहिर पुनिया ने छत्तीसगढ़ में भी बाराबंकी का सम्पर्की टोटका अपनाया जो कि सफल हुआ। सनद रहे कि सम्पर्कों में माहिर पुनिया बाराबंकी में विकट की मोदी लहर में पिछला चुनाव भले ही हार गये हों लेकिन वे यहां रनर प्रत्याशी रहे। जाहिर है कि बाराबंकी में कांग्रेस पीछे थी पुनिया आगे थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *