' भारत आतंकवाद को खत्म करने के लिए कुछ भी कर सकता है ' – सुषमा स्वराज

नई दिल्लीः केंद्र सरकार राष्ट्रीय सुरक्षा, विकास और जनकल्याण के कामों पर खरी उतरी है। इसलिये भाजपा को वोट देना चाहिए। यह बातें विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने रविवार को विजय संकल्प सभा मे बौद्धिक वर्ग के लोगों को संबोधित करते हुए कहीं। सेक्टर 125 स्थित एमिटी विश्वविद्यालय में आयोजित कार्यक्रम में उन्होंने लोगों से कहा कि अपने संसदीय क्षेत्र के कार्यों को परखिये इसके बाद हमें मत दें। केंद्र सरकार ने पांच साल के कार्यकाल में ऐतिहासिक काम किया है और भविष्य में भी काम करेगी।

गौतम बुद्ध नगर की उपलब्धियों के बारे में उन्होंने कहा कि यहां देश का सबसे बड़ा एयरपोर्ट बनेगा। मेट्रो सेवा ट्रेन पंर लगातार काम हो रहा है। इसके अलावा किसान के लिए काम हुआ। राष्ट्रीय स्तर की शैक्षणिक संस्थाएं बनी। साथ ही इस लोकसभा क्षेत्र में ऊर्जा सहित कई क्षेत्र में काम हुए। उन्होंने मजाकिया लहजे में राष्ट्रीय पाक कला संस्थान का नाम। बदलने की बात भी कही। उन्होंने यहां के भाजपा प्रत्याशी डॉ महेश शर्मा से कहा कि इसका नाम पकवान कला या रसोई कला होना चाहिए। (उन्होंने पाक से पाकिस्तान को जोड़कर ये बातें कहीं।)

सुषमा स्वराज ने राष्ट्रीय सुरक्षा, विकास और जनकल्याण पर सरकार द्वारा हुए कामों को बताया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विदेश दौरे के बारे में कहा कि जब वह विदेश दौरे करते थे तो विपक्ष मज़ाक बनाता था, लेकिन उन्हें यह नही पता था कि इसका अंतरराष्ट्रीय मोर्चे पर भारत को काफी लाभ मिलेगा। पुलवामा आतंकी हमले के बाद एयर स्ट्राइक कर पाक में पनाह पाने वाले आतंकवादियों यह बता बता दिया कि भारत आतंक को खत्म करने के लिए कुछ भी कर सकता है। ऑर्गेनाइजेसन ऑफ इस्लामिक कौंसिल में भारत को अतिथि के रूप में बुलाया गया। यह उस समय हुआ जब इस संस्था का संस्थापक सदस्य पाकिस्तान हमारा विरोध करता रहा। इस्लामिक देशों के बीच हमारे कार्यों की प्रशंशा हुई। यह सरकार की बड़ी जीत थी। हमारी सरकार से पहले की सरकारें अगर पाकिस्तान पर नकेल कसती तो पाकिस्तान कभी सिर नहीं उठाता। पाकिस्तान अब विश्व पटल पर अलग थलग पड़ गया है। उन्होंने कहा कि विपक्षी पार्टियों की सरकारें 56 साल में जो नहीं कर पाइ हमने शिक्षा, चिकित्सा, सहित अन्य जनकल्याणकारी क्षेत्र में।वे काम पांच साल में किये। महिलाओं की बेहतरी के लिए ऐतिहासिक काम हुए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *