इन अधिकारियों को सौंपी गई जम्मू-कश्मीर की कमान , अब आतंकियों पर बरसेगा कहर

नई दिल्ली : जम्मू-कश्मीर में राज्यपाल शासन लगने के बाद सूबे को आतंक के साए से छुटकारा दिलाने का जिम्मा अब उस आईपीएस अधिकारी को सौंपा गया है, जिसे उसकी सख्त छवि से लिए जाना जाता है। यह वही आईपीएस अधिकारी है जिसने दक्षिण भारत को वीरप्पन जैसे खूंखार अपराधी के खौफ से निजात दिलाया था।जी हां, वीरप्पन के खात्मे के लिए चलाए गए ऑपरेशन कोकून का संचालन करने वाले विजय कुमार को जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल एनएन वोहरा का सलाहकार नियुक्त किया गया है। उनके अलावा छत्तीसगढ़ कैडर के सीनियर आईएएस बीवीआर सुब्रमण्यम को राज्य का मुख्य सचिव नियुक्त किया गया। ये दोनों ही अधिकारी अपने सख्त रवैये के लिए जाने जाते हैं।एक समय था जब दक्षिण भारत के कुख्यात चन्दन तस्कर वीरप्पन के आतंक से पूरा क्षेत्र खौफजदा था। चन्दन की तस्करी के अलावा हत्या और अपहरण जैसे कई गंभीर अपराधों में लिप्त इस अपराधी को पकड़ने के लिए प्रशासन को नाकों तले चने चबाने पड़े थे। लगभग 20 करोड़ रुपये खर्च करने के बावजूद वह क़ानून की पकड़ से दूर थाइसके बाद कुख्यात तस्कर वीरप्पन तक पहुंचने के लिए तीन राज्यों की पुलिस और सेना को लंबा वक्त लगा था। लेकिन IPS विजय कुमार के नेतृत्व में चलाए गए ऑपरेशन कोकून चलाया गया था। विजय कुमार ने ही तारीख 18 अक्टूबर 2004 को वीरप्पन को मार गिराया था।बीवीआर सुब्रमण्यम 1987 बैच के आईएएस अधिकारी हैं। उन्हें नक्सलियों को धर दबोचने से लेकर नक्सली विचारधारा को खत्म करने का अच्छा-खासा अनुभव है। बी वीआर सुब्रमण्यम लगभग तीन साल से छत्तीसगढ़ में गृह विभाग की जवाबदारी संभाल रहे थे।छत्तीसगढ़ में एंटी नक्सल ऑपरेशन और नक्सली विचारधारा को ख़त्म करने में भी सुब्रमण्यम ने अच्छी भूमिका निभाई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *