निजी डाटा चोरी करने के आरोप में फेसबुक के खिलाफ दर्ज हुआ मुकदमा

नई दिल्लीः अमेरिका के शीर्ष कानूनी अधिकारी ने फेसबुक के खिलाफ डाटा चोरी के मामले में मुकदमा दायर किया है। फेसबुक पर 2016 में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के चुनाव अभियान के दौरान कैंब्रिज एनालिटिका को निजी डेटा मुहैया कराने के आरोप लगे थे, जिसे उसने कबूल कर लिया था। कोलंबिया के अटॉर्नी जनरल कार्ल रैसीन ने एक बयान में कहा, “फेसबुक अपने उपभोक्ताओं की निजता की रक्षा करने में नाकाम रहा है और उसने यह बताने में भी उपभोक्ताओं को धोखा दिया है कि कौन उनके डाटा तक पहुंचा और उसका कैसे इस्तेमाल किया गया।”

मुकदमे में मांग की गई है कि फेसबुक यह सुनिश्चित करे कि वह अपने उपभोक्ताओं की निजता को नियंत्रित रखने के लिये प्रोटोकॉल और संरक्षण पर ध्यान देगा। साथ ही उपभोक्ताओं को अपनी निजता से जुड़ी सेटिंग्स को नियंत्रित रखने की प्रक्रिया को आसान बनाने के अलावा क्षतिपूर्ति भी करेगा। हालांकि फेसबुक की ओर से इस पर कोई टिप्पणी नहीं की गई है। फेसबुक ने कबूल किया था कि कैम्ब्रिज एनालिटिका ने उसके 8 करोड़ 70 लाख से ज्यादा उपभोक्ताओं का डेटा चुराया था।

गौरतलब है कि हाल ही में फेसबुक में आए एक नए बग के कारण करीब 68 लाख फेसबुक यूजर्स के अकाउंट प्रभावित हुए हैं। फेसबुक का कहना है कि यह बग 12 दिन 13 से 25 सितंबर तक रहा है जिसे 25 सितंबर को ठीक कर दिया गया था। इस बग के कारण फेसबुक यूजर्स की फोटो लीक हुई है। इसके डाटा लीक के जांच की जिम्मेदारी आयरलैंड की डाटा प्रोटेक्शन संस्था ने ली है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *