मैं उस भारत को नहीं जानती जिसे 'उत्तेजित' टेलीविजन चर्चाओं में दिखाया जाता है,यह भारत -कश्मीर के बीच खाई बढ़ाता है -महबूबा मुफ़्ती

नई दिल्ली | देश के राजधानी दिल्ली में कश्मीर से संबंधित एक कार्यक्रम के दौरान महबूबा मुफ्ती ने टेलीविजन के प्राइम-टाइम पर दिखाए जाने वाले भारत की जमकर आलोचना की ,उन्होंने कहा कि वह उस भारत को नहीं जानती, जिसे ‘उत्तेजित’ टेलीविजन चर्चाओं में दिखाया जाता है| यह भारत तथा कश्मीर के बीच की खाई को गहरा करता है.

आगे मायूसी भरे लहजे में मुख्यमंत्री ने कहा, “मुझे यह कहते हुए दुख होता है कि टेलीविजन एंकर भारत की जिस छवि को पेश करते हैं, वह भारत के बारे में नहीं है, जिस भारत को मैं जानती हूं उसके बारे में नहीं है| नेहरू-गांधी परिवार को नापसंद करने वाले संस्थाओं की ओर इशारा करते हुए उन्होंने कहा, “मेरे लिए, भारत का मतलब इंदिरा गांधी हैं| जब मैं बड़ी हो रही थी, उन्होंने मेरे लिए भारत का प्रतिनिधित्व किया| हो सकता है कि कुछ लोगों को वह पसंद ना हों, लेकिन वही भारत थीं| ”

आगे उन्होंने कार्यक्रम में कहा कि “मैं उस भारत को देखना चाहती हूं, जो चीखता हो, कश्मीर का दर्द महसूस करता हो| वह भारत जो हमारी शर्तों पर हमें गले लगाता हो| हम अलग तरह के राज्य हैं, जिसमें धर्म व हर चीज में बहु-विविधता है| कश्मीर भारत में एक छोटा सा भारत है| ”
साफ़ जाहिर हैं कि मेहबूबा ने बातों बातों में साफ़ कर दिया कि कश्मीर को उनके ही शर्तों पर रहने दिया जाए| उन्होंने झंडा फहराने और न फहराने से अलग हटकर भारत को देखने कि वकालत की |

This article was first published on http://www.manuinfo.com.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *