NRC प्रकरण:टीएमसी ने की अरुण जेटली के बयान की आलोचना

नई दिल्लीः भाजपा के नेता और वित्तमंत्री अरुण जेटली के बयान पर टीएमसी ने पलटवार किया है। तृणमूल नेता डेरेक ओ ब्रायन ने जेटली के बयान की आलोचना करते हुए कहा कि संप्रभुता बेशक भारत की आत्मा है, धर्मनिरपेक्षता देश का आंतरिक विवेक है। जेटली ने ब्लॉग लिखकर विपक्षी पार्टियों पर वोट बैंक की राजनीति करने का आरोप लगाया था। जेटली ने अपने ब्लॉग में कहा था कि, ‘किसी भी सरकार की सबसे पहली प्राथमिकता अपनी सीमाओं की रक्षा करना है। किसी भी अतिक्रमण को खत्म करते हुए अपने देश के लोगों की सुरक्षा करना है। उन्होंने यह भी कहा कि पूर्व पीएम इंदिरा गांधी और राजीव गांधी ने देश से वादा किया था कि 25 मार्च 1971 के बाद भारत में गैर-कानूनी ढंग से आए प्रवासियों को चिह्नित किया जाएगा और उन्हें वापस भेजा जाएगा। जेटली ने कहा कि देश की आजादी के बाद से ही पूर्वी पाकिस्तान से भारत में बड़ी संख्या में अवैध प्रवासियों का आना जारी रहा। भाषा और वेष भूषा की वजह से उनका भारत के लोगों में मिलना भी आसान रहा।
तृणमूल नेता डेरेक ओ ब्रायन कहते हैं कि संप्रभुता बेशक भारत की आत्मा है, धर्मनिरपेक्षता देश का आंतरिक विवेक है। उन्होंने एक बयान में कहा, ‘एक के बिना दूसरा अर्थहीन है। नागरिकता मूलभूत अधिकार है कोई उपहार या खिलौना नहीं। कृपया इस प्रकार विभाजनकारी खेल मत खेलिए और कृपया आप अपनी सेहत का ध्यान रखें। आपके शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *