खुली 'भारत -म्यांमार' सीमा ,अब किसी विशेष परमिट की नहीं पड़ेगी जरुरत

नई दिल्लीः बुधवार को म्यांमार के तामू में एक भव्य कार्यक्रम के आयोजन के साथ भारत से लगी इस सीमा को खोल दिया गया। भारत और म्यांमार को एक दूसरे से जोड़ने वाले इंडो-म्यांमार फ्रेंडशिप ब्रिज को वहां की सरकार ने औपचारिक तौर पर खोल दिया है। मणिपुर की सीमा से सटे शहर मोरे में इस सीमा के खुलने के बाद अब म्यांमार जाने वाले किसी भी भारतीय को विशेष परमिट की आवश्यकता नहीं होगी। इस समझौते के तहत सीमा पर एक पास के जरिए दोनों देशों के नागरिक एक दूसरे की सीमा में बिना परमिट 16 किमी. तक जा सकेंगे ।

बुधवार को म्यांमार के तामू में एक भव्य कार्यक्रम के आयोजन के साथ भारत से लगी इस सीमा को खोल दिया गया। दोनों देशों के द्विपक्षीय संबंध के लिहाज से अहम इस सीमा का खोला जाना एक ऐतिहासिक और सकारात्मक शुरुआत के तौर पर देखा जा रहा है। बता दें कि 11 मई को विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के म्यांमार दौरे के दौरान नेपीता में दोनों देशों के बीच इस सीमा को खोले जाने के संबंध में समझौता हुआ था।

म्यांमार भारत के रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण पड़ोसी देशों में शामिल है और भारत से 1,640 किलोमीटर लंबी सीमा साझा करता है. उग्रवाद प्रभावित नगालैंड और मणिपुर सहित पूर्वोत्तर के कई राज्य म्यांमार की सीमा से लगे हैं। मोदी सरकार की एक्ट ईस्ट पॉलिसी के तहत दोनों देशों की सीमा का खोला जाना एक अहम समझौता था जिसे अमली जामा पहनाया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *