राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अरुण जेटली को दी श्रद्धांजलि

नई दिल्ली: भाजपा के कद्दावर नेता एवं पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का शनिवार को एम्स में निधन हो गया। वह 66 वर्ष के थे। एम्स ने एक बयान जारी कर कहा कि जेटली ने दोपहर 12 बजकर सात मिनट पर अंतिम सांस ली।  उनका अंतिम संस्कार रविवार को निगमबोध घाट पर दोपहर 2:30 बजे किया जाएगा। इससे पहले सुबह 11 बजे से एक बजे तक उनका पार्थिव शरीर भाजपा मुख्यालय में अंतिम दर्शन के लिए रखा जाएगा।
 राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी,रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और गृहमंत्री अमित शाह समेत कई नेताओं ने उनके निधन पर गहरा दुख व्यक्त किया। जेटली को एम्स में नौ अगस्त भर्ती कराया गया था और कई क्षेत्रों के वरिष्ठ चिकित्सकों का दल उनका इलाज कर रहा था। उन्हें लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया था। प्रधानमंत्री मोदी फिलहाल यूएई में हैं। उन्होंने जेटली की पत्नी और बेटे से फोन पर बात की। दोनों ने मोदी से अपना विदेश दौरा रद्द न करने की अपील की। मोदी यूएई दौरे के बाद जी-7 समिट में हिस्सा लेने दोबारा फ्रांस जाना है।
मोदी ने कहा, देश की आर्थिक उन्नति में अहम योगदान रहा : 
प्रधानमंत्री मोदी ने अरुण जेटली को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा,अरुण जी महान राजनेता थे। बुद्धिजीवी होने के साथ उन्हें कानूनी महारत प्राप्त थी। उनमें गंभीरता और विनोदप्रियता का अनूठा संगम था। समाज के हर वर्ग में लोग उन्हें चाहते थे। संविधान, इतिहास, सार्वजनिक नीति और प्रशासन की उन्हें गहरी समझ थी। केंद्रीय मंत्री के रूप में उन्होंने कई जिम्मेदारियों का निर्वहन किया। देश की आर्थिक उन्नति में योगदान दिया, सुरक्षा को मजबूत किया और ऐसे कानून बनाने में महती भूमिका निभाई जो जनता के लिए सहूलियत वाले हों। भाजपा से उनका अटूट रिश्ता रहा। आपातकाल में वो छात्र नेता के तौर पर सक्रिय रहे। 
कैंसर के इलाज के लिए अमेरिका भी गए थे :
सांस लेने में तकलीफ होने के बाद जेटली 9 अगस्त को एम्स में भर्ती हुए थे। जेटली का सॉफ्ट टिश्यू कैंसर का इलाज चल रहा था। वे इस बीमारी के इलाज के लिए 13 जनवरी को न्यूयॉर्क गए थे और फरवरी में वापस लौटे। जेटली ने अमेरिका से इलाज कराकर लौटने के बाद ट्वीट किया था- घर आकर खुश हूं। उन्होंने अप्रैल 2018 में भी दफ्तर जाना बंद कर दिया था। 14 मई 2018 को एम्स में ही उनके गुर्दे (किडनी) प्रत्यारोपण भी हुआ था, वे शुगर से भी पीड़ित थे। सितंबर 2014 में वजन बढ़ने की वजह से जेटली की बैरियाट्रिक सर्जरी भी कराई गई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *