इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) इस टीम पर लगाया बैन कुछ नियमों में भी हुआ बदलाव

नई दिल्ली: इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) ने गुरुवार को जिम्बाब्वे क्रिकेट (जेडसी) को तत्काल प्रभाव से बैन कर दिया है। जिम्बाब्वे पर ये बैन इसलिए लगाया गया है क्योंकि वो बोर्ड के कामकाज में सरकारी हस्तक्षेप को खत्म करने के अपने वादे को पूरा करने में नाकाम रहा है। आईसीसी के अध्यक्ष शशांक मनोहर ने इसका ऐलान करते हुए कहा कि जिम्बाब्वे ने आईसीसी के संविधान को उल्लंघन किया है इसी वजह से उनपर बैन लगाया गया है।

उन्होंने कहा, ‘हमने किसी सदस्य देश के बैन का फैसला हल्के में नहीं लिया है। हम चाहते हैं कि हमारा खेल भी राजनीतिक दखल से दूर रहे। जिम्बाब्वे में जो हुआ वो आईसीसी के संविधान का गंभीर उल्लंघन है और हम इस स्थिति को ऐसा ही नहीं बने रहने दे सकते। आईसीसी चाहता है कि जिम्बाब्वे में क्रिकेट जारी रहे लेकिन ऐसा आईसीसी के संविधान के नियमों के अनुरूप हो।’

इस बैन के बाद अब जिम्बाब्वे तब तक इंटरनेशनल क्रिकेट नहीं खेल पाएगा, जब तक आईसीसी उन पर से ये बैन ना हटाए। हाल ही में जिम्बाब्वे ने आयरलैंड के खिलाफ वनडे और टी-20 सीरीज खेली थी। 14 जुलाई को दोनों के बीच आखिरी टी-20 मैच खेला गया था। इसके अलावा आईसीसी की लंदन में आयोजित सालाना बैठक में कई बड़े निर्णय हुए।

टेस्ट क्रिकेट में आया नया नियम

जिसमें सबसे अहम टेस्ट क्रिकेट में कनक्युजन रिप्लेसमेंट के रूप में आया। टेस्ट मैच के दौरान सिर में चोट लगने की वजह से घायल होने वाले खिलाड़ियों को बदला जा सकता है। ये बदलाव आगामी एशेज सीरीज के दौरान 1 अगस्त से लागू होगा।

स्लो रनरेट पर कप्तान के बराबर सजा झेलेंगे साथी खिलाड़ी

इसके अलावा स्लो ओवर रेट के लिए दी जाने वाली सजा के नियम में भी बदलाव हुआ है कि ऐसा करने वाली टीम के साथ-साथ टीम के खिलाड़ियों को भी इसके लिए बराबर जिम्मदार ठहराया जाएगा और उन्हें भी कप्तान के बराबर सजा भी मिलेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *