सुप्रीम कोर्ट की प्रदुषण को लेकर केंद्र को फटकार,कहा – लोगों की जान अहम या उद्योग

नई दिल्ली : “अखबारों में रिपोर्ट छपती हैं कि प्रदूषण के कारण 60 हजार लाेग मारे गए। साफ-साफ समझ लें कि देश के लोगों की जान उद्योगों से कहीं ज्यादा महत्वपूर्ण है।’ प्रदूषण के मुद्दे पर सोमवार को पर्यावरण और वन मंत्रालय को फटकार लगाते हुए सुप्रीम कोर्ट ने यह टिप्पणी की।
दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण के मुद्दे पर पर्यावरणविद् एमसी मेहता ने 33 साल पहले 1985 में याचिका दायर की थी। इस पर सुनवाई के दौरान मंत्रालय ने उद्योगों में ईंधन के तौर पर इस्तेमाल होने वाले पेट कोक के आयात पर पाबंदी के प्रभावों के अध्ययन के लिए कोर्ट से मोहलत मांगी। इस पर जस्टिस एमबी लोकुर और दीपक गुप्ता की बेंच ने कहा, “पेट कोक के आयात को इजाजत देने के लिए आप बेहद उत्सुक दिखते हैं। क्या आप बिना अध्ययन किए देश में पेट कोक के आयात की इजाजत दे रहे थे? अखबारों में छपता है कि प्रदूषण से 60 हजार लोग मारे गए। आप कर क्या रहे हैं?’ बेंच ने कहा, “हमें नहीं पता कि यह रिपोर्ट सच है या झूठ। लेकिन आपकी रिपोर्टों ने भी संकेत दिए हैं कि प्रदूषण से लोग मर रहे हैं।’
लोग उद्योगों से ज्यादा महत्वपूर्ण हैं: हालांकि, मंत्रालय की ओर से पेश एडिशनल सॉलिसीटर जनरल एएनएस नाडकर्णी ने कहा कि पर्यावरण प्रदूषण नियंत्रण प्राधिकरण (ईपीसीए) की रिपोर्ट में मंत्रालय को अति उत्साही बताया गया है। एेसा नहीं है। अध्ययन और ईपीसीए के साथ चर्चा में बुराई क्या है?’ इस पर बेंच ने कहा, “एक बार साफ-साफ समझ लें। इस देश के लोग उद्योगों से ज्यादा महत्वपूर्ण हैं।’ कोर्ट ने मंत्रालय को आदेश दिया कि एक हफ्ते में ईपीसीए के साथ बैठक कर सूचित करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *