यशवंत सिन्हा का जेटली पर आरोप, जेटली के राज में 'अर्थव्यवस्था बेहाल'

यशवंत सिन्हा का जेटली पर आरोप, जेटली के राज में 'अर्थव्यवस्था बेहाल'
यशवंत सिन्हा का जेटली पर आरोप, जेटली के राज में ‘अर्थव्यवस्था बेहाल’

अटल बिहारी सरकार में वित्त मंत्री रहे यशवंत सिन्हा ने एक लेख के जरिए मोदी सरकार में मौजूदा वित्त मंत्री अरुण जेटली को उनके गलत नीतियों के लिए घेरा है। अग्रेंजी अख़बार इंडियन एक्सप्रेस में लिखे लेख में उन्होंने कहा कि देश की अर्थव्यवस्था डूब रही है। उन्होंने कहा कि मौजूदा सरकार में यह बात कई लोग जानते है लेकिन डर के कारण कुछ कह नहीं पाते। इस लेख का शीर्षक ‘I need to speak up now’ (मुझे अब बोलना ही होगा) है। उन्होंने लिखा है, ”देश के वित्त मंत्री ने अर्थव्यवस्था को तबाह कर दिया है, ऐसे में अगर मैं चुप रहूं तो मैं अपने राष्ट्रीय कर्तव्य के साथ अन्याय करुंगा।”

सिन्हा ने लिखा कि इस सरकार में जेटली सबसे बेहतर माने जाते है। यह 2014 लोकसभा चुनावों से पहले तय था कि वह नई सरकार में वित्‍त मंत्री होंगे। अमृतसर से लोकसभा चुनाव हारना भी उनकी राह का रोड़ा नहीं बना। यशवंत सिन्हा ने याद दिलाया कि ऐसे ही हालात में पूर्व पीएम अटल बिहारी ने अपने करीबी जसवंत सिंह और प्रमोद महाजन को कैबिनेट में जगह नहीं दी थी।

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार में जेटली का कद कितना ऊंचा है, इस बात का पता इससे चलता है कि जेटली को एक साथ चार मंत्रालय दिए गए, जिनमें से तीन अब भी उनके पास हैं। मैंने वित्‍त मंत्रालय संभाला है और मैं जानता हूं कि वित्त मंत्रालय में कितना काम होता है। इस मंत्रालय को अपने प्रमुख के पूरे ध्‍यान की आवश्‍यकता होती है। यहां तक कि जेटली जैसा सुपरमैन भी काम के साथ न्‍याय नहीं कर सकता।”

उन्होंने लिखा है, ”आज अर्थव्यवस्था की क्या हालत है? निजी निवेश गिर रहा है, इंडस्ट्रियल प्रोडक्शन सिकुड़ रहा है, कृषि संकट में है, कंस्ट्रक्शन और दूसरे सर्विस सेक्टर धीमे पड़ रहे हैं, निर्यात मुश्किल में है, नोटबंदी नाकाम साबित हुआ और जीएसटी ने कइयों को डुबो दिया, रोज़गार छीन लिए, नए मौके नहीं दिख रहे।”

सिन्हा के मुताबिक ग्रोथ रेट धीमी पड़ रही है। सरकार के लोग कह रहे हैं कि इसकी वजह नोटबंदी नहीं है। वो सच कह रहे हैं ये तो पहले से शुरू हो गया था। नोटबंदी ने आग में घी का काम किया।

सिन्‍हा ने कहा कि अर्थव्‍यवस्‍था को लेकर ”प्रधानमंत्री चिंतित हैं। प्रधानमंत्री द्वारा वित्‍त मंत्री और उनके अधिकारियों की बुलाई गई बैठक अनिश्चितकाल के लिए स्‍थगित कर दी गई है। वित्‍त मंत्री ने ग्रोथ बढ़ाने के लिए एक पैकेज की घोषणा की है। हम सभी सांस रोके इस पैकेज का इंतजार कर रहे हैं। अभी तक तो यह आया नहीं।

अंत में वित्‍त मंत्री अरुण जेटली पर तंज कसते हुए उन्‍होंने कहा, ”प्रधानमंत्री कहते हैं कि उन्‍होंने बेहद करीब से गरीबी देखी है। ऐसा लगता है कि वित्‍त मंत्री यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि सभी भारतीयों को भी बेहद करीब से इस तरह का अनुभव होना चाहिए।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *